संसद में राजस्थान

  • 2015-04-23 02:00:18.0
  • उगता भारत ब्यूरो

सांसद ओम बिरला ने आपदा में बर्बाद हुए किसानों का कर्जा माफ करने का मुद्दा संसद में उठाया


दीर्घकालीन ऋण वसूली की अवधि बढ़ाई जाए


                नई दिल्ली, 22 अप्रेल, 2015। कोटा-बूंदी सांसद श्री ओम बिरला ने बुधवाparliament.र को संसद में नियम 377 के अन्तर्गत किसानों द्वारा किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से लिए गए ऋणों पर ब्याज माफ करने एवं ग्राम सेवा सहकारी समितियों के माध्यम से दिए गए ऋणों सहित अन्य फसली ऋणों को माफ करने की मांग उठाई।


                श्री बिरला ने कहा कि कोटा संभाग सहित संपूर्ण राजस्थान में इस वर्ष असमय हुर्ह वर्षा और ओलावृष्टि के कारण हाडौती संभाग विशेषकर कोटा, बूंदी जिले में किसानों की गेहूं, धनिया, सरसों सहित अन्य फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। प्रेदश के अधिकांश किसान इस असामयिक प्राकृतिक मार के कारण गहरी आर्थिक विपत्ति में फंस गए हैं। प्रकृति की यह मार किसानों पर उस समय पडी है जब वह खेती संबंधित समस्त लागत लगा चुका है और फसल लगभग पककर कटने को तैयार थी। आकंठ कर्ज में डूबे किसानों के घर में इस वर्ष खुद के खाने के लिए भी गेहूं नहीं हैं और उसके समक्ष पूरे एक वर्ष तक इसी परिस्थिति में गुजारा करने का संकट आ खडा हुआ है।


                श्री बिरला ने कहा कि रबी की फसल उगाने के लिए किसानों द्वारा विभिन्न बैंकों एवं सहकारी संस्थाओं द्वारा जो अल्पकालीन फसली ऋण उपलब्ध कराए गए थे उनको चुकाने में किसान असमर्थ है। ऐसी स्थिति में किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से दिए गए ऋणों पर ब्याज माफ करके उन्हें चुकाने की अवधि 30 जून 2016 तक बढाया जाना आवश्यक है तथा ग्राम सेवा सहकारी समितियों के माध्यम से दिए गए ऋणों सहित अन्य फसली ऋणों को माफ किया जाना चाहिए तभी किसान इस आपदा से उबर पाने में सक्षम हो सकेगा। साथ ही अत्यधिक प्रभावित क्षेत्रा में जहां इस वर्ष  किसान के पास खाने का गेहूं भी नहीं बचा है वहां निशुल्क खाद्यान्न वितरित कराए जाने की व्यवस्था की जाए।


                श्री बिरला ने प्रधानमंत्राी श्री नरेन्द्र मोदी का धन्यवाद देते हुए कहा कि इतिहास में पहली बार आपदा राहत के मानदण्डों में शिथिलता देते हुए खराबे की सीमा 50 प्रतिशत की जगह 33 प्रतिशत की है जिससे बडी संख्या में किसानों को मुआवजा मिलेगा। वित्त मंत्राी श्री अरूण जेटली, केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्राी श्री मोहनभाई कुण्डारिया व केन्द्रीय सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्योग राज्य मंत्राी श्री गिरिराज सिंह द्वारा भी क्षेत्रा का दौरा करके खराबे का जायजा लिया गया है व किसानों की पीड़ा को समझते हए प्रभावित किसानों को शीघ्र राहत प्रदान करने के उद्देश्य से केन्द्र सरकार की टीम को प्रभावित इलाकों में भेजा है।


                श्री बिरला ने कहा कि राजस्थान के पीड़ित किसानों को अधिकाधिक सहायता राशि उपलब्ध कराने के लिए केन्द्र सरकार विशेष आर्थिक राहत प्रदान करे। साथ ही किसान क्र्रेडिट कार्ड के माध्यम से दिए गए ऋणों पर ब्याज माफ किए जाए साथ ही ग्राम सेवा सहकारी समितियों के माध्यम से दिए गए ऋणों सहित अन्य फसली ऋणों को भी माफ किया जाना चाहिए।