तुम ‘चीखता’ के उस्ताद हो, प्यारे!

  • 2015-04-21 02:20:48.0
  • डॉ0 वेद प्रताप वैदिक

rahul gandhiभूमि अधिग्रहण के सवाल पर कांग्रेस की रैली आशा से अधिक सफल रही, हालांकि कई टीवी चैनल खाली कुर्सियाँ बार-बार दिखा रहे थे। 19 अप्रैल का यह रविवार बेहद गर्म साबित हुआ। इतनी गर्मी में भी लोग आए और जमे रहे,यह कम बड़ी बात नहीं है। एकदम लुटे-पिटे नेतृत्व की यह पहली रैली थी। 10 साल के राज में कांग्रेस ने देश को जमकर सूंता है, पूंजीपतियों को दुहा है, देशी-विदेशी कंपनियों से रिश्वतें खाई हैं। उसने 2014  के चुनाव में भी पैसा पानी की तरह बहाया है। यह और बात, है कि वह खुद ही बह गई। इसके बावजूद उसके नेताओं के पास करोड़ों-अरबों रूपया अभी भी बचा पड़ा  है।


कांग्रेसियों की मुझे तारीफ़ करनी होगी कि उन्होंने उस पैसे को दबाकर नहीं रखा। अपने नेता को फिर से जिन्दा करने के लिए उन्होंने करोड़ों रुपये फूंक दिए। रेलों में, बसों में, कारों में, भरकर हज़ारों लोगों को रामलीला मैदान में ला खड़ा किया। पगड़ियों और टोपियों का लालच तो कार्यकर्ताओं के सिर चढ़कर बोल ही रहा था लेकिन बटुए ने भी कम कमाल नहीं किया। जो भी हो,सभी दलों की आजकल भीड़ जुटाने की शैली यही है तो फिर अकेली कांग्रेस को दोष क्यों दें?


राहुल को जो भाषण रटाया गया था, वह उन्होंने बिना उतार-चढ़ाव के, जनता को परोस दिया। यदि आप मिर्जा ग़ालिब को ‘रेख्ता के उस्ताद’ कहते हैं तो आप शहजादे राहुल को ‘चीखता के उस्ताद’ कह सकते हैं। लगभग 20 मिनिट तक राहुल चीखते रहे। मोदी सरकार के विरुद्ध उन्हें जयराम रमेश या दिग्गी राजा ने तर्क तो अच्छे रटाए थे लेकिन आश्चर्य है कि उनके भक्तों की भीड़ ताली बजाना भी भूल गई।


कहीं उनके पगड़ियों के नीचे प्रांतीय नेताओं ने नींद की गोलियाँ तो नहीं रख दी थीं? अगली पंक्तियों में बैठे बड़े-बड़े नेताओं के सिर पर पगड़ियाँ नहीं थीं। फिर भी वे झपकियाँ क्यों ले रहे थे? क्योंकि शहजादे का भाषण ही उनके लिए नींद की गोली का काम कर रहा था। चीखना भी उनके लिए राग मालकौंस का-सा असर कर रहा था । शाहजादे ने एक-दो मजाक की बातें भी कहीं लेकिन कोई हसां तक नहीं। शाहजादे ने कहा कि चुनाव लड़ने के लिए मोदी ने ‘उदियोगपतियों’ से हजारों करोड़ रुपये का जो ‘कर्ज’ लिया था, उसे अब वे किसानों की जमीनें छीनकर उन्हें चुका देंगे। कितनी ऊँची अकल की बात कही, राहुलजी ने? फिर भी किसानों ने तालियाँ नहीं बजाईं। मंच पर खड़े दरबारियों ने श्रोताओं को हाथ हिला-हिलाकर तालियाँ बजाने के लिए भी कहा लेकिन वह भी बेअसक! शायद नेता जी के चीखने-चिल्लाने में ही सारी दलीलें और तालियाँ डूब गईं।