किसानों को मिले सहायता

  • 2015-03-14 07:28:59.0
  • उगता भारत ब्यूरो
किसानों को मिले सहायता

प्राकृतिक आपदा से टूट चुके किसान को मिले संबल, रूके ऋणों व बिजली बिलों की वसूली, एसडीआरएफ व एनडीआरएफ नियमों में शिथिलता देकर किसानों को मिले सहायता


नई दिल्ली, 13 मार्च, 2015। कोटा-बूंदी से लोकसभा सांसद श्री ओम बिरला ने राजस्थान के कोटा संभाग सहित देश के विभिन्न राज्यों में असमय हुई तेज अंधड के साथ भारी बारिश व ओले गिरने के विशय पर केन्द्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह को पत्र लिख प्रभावित किसानों को मदद प्रदान करने का आग्रह किया है।

श्री बिरला ने बताया कि असमय हुई इस प्राकृतिक आपदा के कारण किसानों की फसलें विशेषकर गेहूं, जौ, सरसों, धनिया, मसूर, मटर, जीरा, ईसबगोल आदि बड़ी मात्रा में खराब हो गई है। प्रकृति की यह मार किसानों पर उस समय पडी है जब वह खेती संबंधित समस्त लागत लगा चुका है और फसल लगभग पककर कटने को तैयार थी।

श्री बिरला ने बताया कि वर्तमान में एसडीआरएफ व एनडीआरएफ में सहायता हेतु वर्श 2010 से 2015 तक की अवधि के लिए जो नवीन मानदण्ड जारी किए गए हैं उनमें कीमतों की वृद्धि के कारण प्रभावितों को राहत देने के लिए पडने वाले प्रभावों पर विचार नहीं किया गया। फलस्वरूप कीमत वृद्धि के कारण प्रदान की गई राहत से प्रभावितों को वास्तविक लाभ कम होगा। अतः संषोधित किए गए मानदण्डों को मूल्य सूचकांक से जोडकर दिया जाए ताकि राहत का वास्तविक लाभ प्रभावितों को मिल सके। एसडीआरएफ व एनडीआरएफ नॉर्म्स में ओलावृश्टि, पाला व षीतलहर की दृश्टि में 50 प्रतिषत या अधिक फसल खराब होने पर ही कृशि आदान सहायता दी जाती है जिसके कारण बडी संख्या में किसान सहायता से वंचित रह जाते हैं।

श्री बिरला ने केन्द्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह से अनुरोध किया है कि एसडीआरएफ व एनडीआरएफ नियमों में षिथिलता देकर पीडित किसानों को सहायता दी जाए, साथ ही खराबी की उक्त सीमा को 20 से 50 प्रतिषत के बीच किया जाए तो किसानों को वास्तविक लाभ मिल पाएगा।