फिर चला बेगुनाहो पर बुलडोजर, क्यू बच गई अल्पसंख्यको की बस्तिया।

  • 2015-02-23 02:11:13.0
  • उगता भारत ब्यूरो
फिर चला बेगुनाहो पर बुलडोजर, क्यू बच गई अल्पसंख्यको की बस्तिया।

हापुड़ पिलाखुवा विकास प्राधिकरणः इंटरवियू देने से बचें वी0सी0, मुख्य सचिव के पास टरकाया।


अजीत कुमार शर्मा, हापुड़ः जैसा कि हमारे दो सप्ताह पूर्व के प्रकाशन में हमने अपको पारकिंग व्यावस्था व मल्टी स्टोरियो वाले प्लाजाओ में पारकिंग की जर-जर व्यवस्थाओं से और उससे होने वाली दिक्कतो से भी परिचित कराया था और इसी के तहत हमने भिविन्न विभागो के अफसरो और हापुड़ के कुछ बड़े प्लाजा मालिको से इन परेशानियो के हल के जवाब हेतू सम्पर्क साद्या तो ये अद्यिकारी और प्लाजा मालिक बचते दिखे, फिर भी हम हापुड़ पिलाखुवा विकास प्राधिकरण के वी0सी और मुख्य सचिव से मिले। वी0सी0 साहब ने पहले तो हमे पत्रकार होने के नाते हमे आने दिया पर जैसे ही हम अपनी खबर के विषय कि चर्चा पर आये तो वी0सी0 साहब कुछ भड़के से स्वर में वोले कि ’’मैं इंटरवियू नहीं देता’’, जब हमने जनहित कि बात कही और कहा कि हर किसी की जवाबदेही जनता के समक्ष होनी चाहिये, तो फिर हमें , मुख्य सचिव महोदय श्री एस0पी0 सिंह जी से मिलने को कहा और शायद खुद को बचाने की कोशिश करी।


मुख्य सचिव महोदय अब क्या कर सकते थे, बोले मैं तो नया आया हूॅ और इस विषय पर पूरी जानकारी प्राप्त कर हमें दोबारा बुला कर इंटरवियू देने का आश्वाशन दिया, और कहा कि अगर कुछ गलत हैं तो आरोपियो पर कार्यवाही की जाऐगी।


अब फिर से इस प्रश्न का उत्तर जानने के लिए हम लगातार प्रयासरत हैं, अगले प्रकाशन में फिर लाऐंगे कुछ विभागो के अफसरो और हापुड़ के कुछ बड़े प्लाजा मालिको के जवाबो को अपके समक्ष, और जबतक इस परेशानी का हल नही मिलता हम पिछे नही हटेंगे।


  शहर मे गत शनिवार के दिन एक बार फिर बुलडोजरो कि आवाज से लोगो में हड़कम्प का माहोल रहा। अद्यिकारिओ के प्रति कुछ लोगो ने हमेशा कि तरह र्दुव्यावाहर का आरोप भी लगाया, पर इस बार लोगो ने खुले रूप में एक बात पर जोर देते हुए कहा कि ये वोटो के लालच मे राज्य सरकार कि पक्षपात कि राजनिति हैं, गरीबो को ही ये अद्यिकारी दबा रहें हैं बाकी पहले हुए अतिक्रमण हटाओ अभियानो मे भी अमीरो व अल्पसंख्यको को राहत दी गयी हैं।


इस मोके पर अद्यिकारियो मे हापुड़ एस0डी0एम, एस0एच0ओ, व नगर पालिका परिषद के अद्यिकारी मोजूद थे। अब आगे देखना यह है कि शासन व प्राशासन लोगो के मन मे उठे पक्षपात के सवालो का जवाब बुलन्दशहर रोड पर अतिक्रमण हटाओ अभियान चला कर दे पायेगा या नहीं?