भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना

  • 2015-01-30 11:08:55.0
  • उगता भारत ब्यूरो
भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना


राजीव शर्मा "राज"


भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना



भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना




कुछ अपने घरों में हर साल कन्या पूजन करवाते हैं



कुछ बेदर्दी कोख में बेटी मारने की दूकान चलाते हैं



क्यों बेटों की चाह को हम, मन में पालते हैं ?



अपनी बेटियों को क्यों नही हम संभालते हैं ?



क्या बेटी होना पाप है ? कोई मुझे समझाना



भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना



भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना




अगर बेटी जन्म ले ले, तो ताने सहती है



बेटी घर का बोझ है, दुनिया ये कहती है



अपने ही घर से निकलना भी दुश्वार है



अपने ही माँ बाप का ये कैसा प्यार है ?



बेटियाँ बोझ नही है, दुनियाँ को ये है बताना



भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना



भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना




अपना ये कैसा नंगा संसार है ?



जहां होती आबरू तार-तार है



पूजा करें सरस्वती, काली, माता शेरोवाली की



कस्मे खाते है सभी बेटियोँ की रखवाली की



औरत को देखते ही, क्यों बदलता है ज़माना ?



भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना



भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना




इस पत्थर दुनियाँ का नही कोई जवाब है



बेटियोँ के लिए ये दुनियाँ बड़ी खराब है



आज का इन्सान खुद को कहता भगवान् है



बेटियों के लिए हर मन में शैतान है



कब होगा बंद ? बेटियोँ पर ज़ुल्म ढाना



भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना



भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना




धन- दौलत ना मेरे बाबुल के पास है



ये सोच कर ससुराल में बेटी उदास है



दहेज़ की नित नई-नई मांगे होती हैं



अकेले में बैठी बेटी दिन-रात रोती है



कब बंद दहेज़ होगा ?



कब होगा बंद बेटियों को जलाना ?



भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना



भगवान् अगले जन्म मुझे बेटी ना बनाना


 

राजीव शर्मा "राज"


गाँव -घुमैत, डाक- कूमकलां


जिला - लुधियाना (पंजाब)