राजस्थान पवेलियन में आकर्षण का केन्द्र....

  • 2014-11-25 03:17:23.0
  • उगता भारत ब्यूरो
राजस्थान पवेलियन में आकर्षण का केन्द्र....

राजस्थान पवेलियन में आकर्षण का केन्द्र बनी राजस्थानी जूतियां और मोजड़ियां


                नई दिल्ली, 25 नवम्बर, 2014। नई दिल्ली के प्रगति मैदान में चल रहें 34वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेले के राजस्थान पवेलियन में सदाबहार राजस्थानी जूतियां एवं परम्परागत मोजड़ियां दर्शकों को अपनी ओर आकर्षित कर रही हैं।


                राजस्थान के जोधपुर जिले से आये जूतियां के निर्माता चन्द्रा गुर्जर एवं दयाराम गुर्जर ने बताया कि राजस्थानी जूतियां विशेष रूप से चमड़े से बनाई जाती  हैं। ये जूतियां पहनने में हल्की एवं टिकाऊ होती है। उन्होंने बताया कि राजस्थानी जूतियां अपने सदाबहारी उपयोग के साथ ही देखने में आकर्षक लगती है। ये जूतियां अपने उचित मूल्य के कारण भी दर्शकों की प्रमुख पसंद हैं।


                राजस्थान पवेलियन में राजस्थान की आकर्षण रंग-बिरंगी जूतियों का प्रदर्शन कर रहे सीकर के श्री रमेश कुमार निर्वान ने बताया यह जूतियाँ हर मौसम में पसीना सोखने की खास विशेषता के कारण काफी आरामदायक एवं उपयोगी होती है।


                पेवेलियन में ही राजस्थानी मोजड़ियों का प्रदर्शन कर रहे, जयपुर के जुबेर अहमद ने बताया कि मोजड़ियां का आकर्षण महिलाओं की खरीददारी एवं दर्शकों में सबसे अधिक है। रंग-बिरंगी मोजड़ियां राजस्थान के मारवाड़ अंचल की खास पहचान है। ये मोजड़ियां पहनने में काफी हल्की और आकर्षक होती है।



 जयपुर की कलाकार श्रीमती अनुराधा शर्मा की


 डिजाईन की गई ज्वैलरी व्यापार मेला में छायी



                नई दिल्ली के प्रगति मैदान में चल रहे अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेला में जयपुर की एक महिला कलाकार श्रीमती अनुराधा शर्मा द्वारा डिजाईन की गई राजस्थान की परम्परागत एवं समकालीन तरीके के मेल से संयोजित ज्वैलरी लोगों द्वारा काफी पसंद की जा रही है।


                प्रगति मैदान के हॉल सात में लगाया गया उनका स्टॉल जन आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है।


                उनके आभूषणों में मुख्य रूप से राजस्थान के परम्परागत एवं समकालीन आभूषणों के मेल से तैयार की गई नई डिजाईनंे बाजार में नये उत्पादों के रूप में सामने आई है, जो कि सभी उम्र के पुरूषों एवं महिलाओं के लिए समान आकर्षण और उपयोगी साबित हो रही हैं।


                श्रीमती अनुराधा शर्मा बताती है कि उनके आभूषणों की डिजाईन्स मंे बहुमूल्य प्राकृतिक स्टोन एवं अर्द्ध बेशकीमती और बेशकीमती पत्थरों के गहनों की खास श्रृंखला बाजार में उपलब्ध कराई जा रही है, जो कि सभी लोगों विशेषकर युवाओं को अपनी ओर आकर्षित कर उन्हें लुभा रही है।