रक्त-रंजित मुद्रा की चकाचौंध-14

  • 2014-07-08 10:49:41.0
  • मुजफ्फर हुसैन

मुजफ्फर हुसैन

गतांक से आगे.......

मुंबई आज भी वह दिन भूली नही है जब इसका विरोध करते हुए तीस साल के एक युवक ने अपनी जान दे दी। सहसा ही मुंबई वासियों के बाबू गेनू की याद आ गयी, जो 25 साल का जवान था, जिसने विदेशी कपड़ों से भरे ट्रक को अपनी छाती से रोकने का प्रयास किया था। बाबू गेनू को विदेशी माल के सौदागरों ने ट्रक blood-drive 1998 के दिन आंध्र प्रदेश के रूद्रारम नामक ग्राम में हैदराबाद के निकट मैदक जिले में स्थित परिसर में एक यांत्रिक कत्लखाना स्थापित करने के लिए आवेदन किया। आंध्र सरकार ने केवल साढ़े तीन महीने बाद 4 मई 1998 को इस कत्लखाने के लिए अपनी स्वीकृति प्रदान कर दी। 30 जनवरी महात्माजी के शहादत का दिवस है। क्या आंध्र सरकार ने इस प्रकार की घृणित और खून में डूबी श्रद्घांजलि देकर बापू का मजाक नही उड़ाया? तत्कालीन कांग्रेस सरकार का इससे बढक़र पाप और क्या हो सकता है? एक साल में यह कत्लखाना एक लाख अस्सी हजार भैंस पाड़े और सात लाख भेड़-बकरे काटता है। भारत के मांसाहारियों के लिए नही, बल्कि अरबस्तान में बैठे तेलिया राजाओं के लिए जो रात दीनार और रियाल की वर्षा करते हैं,
जो अलकबीर के मालिकों के पास जमा हो जाते हैं। सरकार उनके निर्यात पर गर्व करन्ती है और अच्छे निर्यात करन्ने वाले को पुरस्कार देकर उनकी पीठ थपथपाती है।

अलकबीर एक्सपोट्र्स लि. ने 6 फरवरी 1998 को कहा था कि अलकबीर समूह द्वारा इस इकाई को प्रारंभ करते समय खुशी महसूस कर रहा है। हम 1976 से जाने माने निर्यातक हैं। हमारा मुख्य लक्ष्य मध्य पूर्व में भारतीय पशुओं का मांस पहुंचाना है। कंपनी ने अपनी रपट में कहा था कि भारत में सात करोड़ पचास लाख भैंसें और पाड़े हैं, जिनमें से कत्ल के लिए तीन करोड़ तीस लाख भैंस पाड़ों को चुना जाएगा। इतने अधिक पशुओं की हत्या से कितनी हानि हुई और उसके क्या दूरगामी परिणाम सामने आए, यह तो एक लंबी बहस है, लेकिन जिस कंपनी ने कहा था कि इस कारखाने से एक लाख 25 हजार लोगों को काम मिलेगा, अब तक केवल 456 लोगों का काम मिला है। भारतीय जनता और अहिंसा प्रेमियों के लगातार आंदोलन करने से अलकबीर का नाम तो जाना माना है, लेकिन इस प्रकार की 36 अन्य इकाईयां भारतीय पशुओं का कत्लेआम करके प्रतिवर्ष करोड़ों की कमाई कर रही हैं। इनमें चंडीगढ़ के निकट पटियाला जिले के डेराबक्सी गांव में ऑस्टे्रलियन कंपनी के सहयोग से ऐसा कत्लखाना स्थापित हुआ है जिसमें 8 घंटों के भीतर बीस हजार पषुओं की हत्या की जाती है। क्रमश: