थीम एजूकेशन एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी भोपाल का विश्व बालिका दिवस पर विश्व कीर्तिमान में नाम दर्ज

  • 2013-01-18 10:05:50.0
  • उगता भारत ब्यूरो
थीम एजूकेशन एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी भोपाल का विश्व बालिका दिवस पर विश्व कीर्तिमान में नाम दर्ज

यह बड़ा ही हर्ष का विषय है कि समाज सेवा के लिए विश्व विख्यात संस्था थीम एजूकेशन एवं शोशल वेलफेयर सोसाइटी भोपाल ने अपनी स्थापना के एक वर्ष के अंदर ही एक राष्ट्रीय कीर्तिमान बनाया यह कीर्तिमान जल्द ही विश्व कीर्तिमान बन गया जिसका एक मात्र उद्देश्य लब केयर एवं एवं एजूकेशन गल्र्स चाइल्ड है। इस कीर्तिमान के साथ पांच राष्ट्रीय कीर्तिमान में कुछ विश्व कीर्तिमान भी बने हैं। थीम एजूकेशन एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी भोपाल की स्थापना श्री राकेश परते पिता स्व. सुमरन लाल परते के द्वारा की गयी है। इस संस्था के सभी पदाधिकारी एवं सदस्य आदिवासी समाज से ही हैं। अपने विभिन्न सूत्रीय कार्यक्रमों में आदिवासीय उत्थान के लिए संस्थ जानी जाती है। हाल ही में संयुक्त राष्ट्र यूनाईटेड नेशनल द्वारा घोषित पहले अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस को थीम एजूकेशन एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी भोपाल (एनजीओ) एवं नारायण राव बहुउद्देशीय संस्था नागपुर के साथ इस दिवस को शानदार तरीके से मनाया गया इस आयोजन को विश्व रिकार्ड का दर्जा प्राप्त हो गया। इस दिवस पर 254 छात्राओं ने बालिकाओं के महत्व पर निबंध लिख यह विश्व कीर्तिमान राकेश परते के जन्म स्थल छिंदवाड़ा जिले परासिया तहसील के समीप चांदामेट के शासकीय कन्याशाला पर बनाया गया। इस समारोह में स्कूल के प्राचार्य श्रीमति सूरजकला अध्यापक राजेश भोज ने एवं निनाद जादव का योगदान रहा है, माना कि नाट्यगंगा संस्था में बेटियों की महत्व में विशेष नाट्य का मंचन किया, जिसमें पंकज, सविन का योगदान भी महत्वपूर्ण है, थीम एजूकेशन एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी भोपाल ने स्व. सुमरन लाल परते की स्मृति में पुरस्कार बच्चियों को दिया गया।
ज्ञात हो कि किसी विश्व समारोह में विश्व बालिका दिवस पहला आदिवासी स्मृति पुररूकार है। इस समारोह में विशेष आकर्षण आक्षर (अविवा) का जन्म 28.07.10 को जिसके नाम से आधा दर्जन राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय रिकार्ड है। जैसे लिम्बा बुक ऑफ रिकार्ड, इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड, आचार्य इंडिया, इवरेस्ट बल्र्ड रिकार्ड, वल्र्ड रिकार्ड सेंटर, एशिया बुक आफ रिकार्ड इस दिन 11.10.2012 में विश्व बालिका दिवस में राकेश परते संत चावला नेशनल अकाडमी पर समारोह में विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे, एवं इसी वर्ष पांडुचेरी में आयोजित आस्टि वल्र्ड रिकार्ड समारोह में राकेश परते को बालिका उत्थान के उत्कृष्ट कार्य के लिए पांडुचेरी में मुख्यमंत्री के द्वारा ऐसिस्ट वल्र्ड रिकार्ड से नवाजा गया, जिसमें पुरस्कार लेते हुए राकेश परते एवं पत्नी श्रीमति वंदना परते मुख्य रूप से उपस्थित थीं। थीम एजूकेशन एवं शोसल वेलफेयर सोसाइटी भोपाल ने प्रदेश एवं देश के सभी सागा समाज के समस्या बंधुओं को यह संदेश देना चाहती है कि आप सभी बच्चियों को खूब पढ़ाएं अच्छी शिक्षा दें क्योंकि बेटियों से परिवार बनता है, परिवार से वंश चलता है, वंश से समाज बनता है, और जब समाज शिक्षित होता है तो राष्ट्र विकसित होगा। अत: संस्था ने इस नेक कार्य के लिए समस्त आदिवासिय समाज से सहयोग की अपील की एवं संस्था ने आदिवासी सेवा मंडल को सहयोग करने के लिए हृदय से धन्यवाद देती।