गुजरात चुनाव: कांग्रेस और भाजपा की अग्नि-परीक्षा

प्रमोद भार्गवनवंबर-दिसंबर में होने जा रहे गुजरात व हिमाचल के विधानसभा चुनाव कई दृष्टियों से महत्वपूर्ण हैं, जाहिर है कांग्रेस और भाजपा को तो अग्नि-परीक्षा से गुजरना होगा ही, नरेन्द्र मोदी की भी इस चुनाव में अग्निपरीक्षा होगी। यदि वे इस अग्निपरीक्षा की भट्टी से सोने की तरह तपकर सौ कैरेट खरे निकलते हैं तो […]

Continue Reading

तर्कसंगत है सपा नेता मुलायम सिंह यादव का महिलाओं के लिए आरक्षण में आरक्षण

राकेश कुमार आर्यमहिला आरक्षण विधेयक को लाकर यथाशीघ्र उसे संसद से पारित करा लेना कांग्रेस नीत यूपीए की सरकार का प्रथम लक्ष्य बनता दीख रहा है। मुलायम सिंह यादव और शरद यादव जैसे लोग इस महिला विधेयक से मतभेद रखते हैं। उनका मानना है कि इस विधेयक का वर्तमान प्रारूप ही गलत है। इसमें दलित […]

Continue Reading

अखिलेश जी! अपने वायदों पर नही, जनता के फायदों पर चलो

उत्तर प्रदेश की कमान संभाले हुए अखिलेश यादव को अब सात माह से अधिक का समय हो गया है। वह एक युवा हैं और युवा होने के नाते प्रदेश की जनता को विशेष अपेक्षाएं उनसे हैं। युवा बीते हुए कल से कम बंधा होता है, वह आने वाले कल के सुनहरे सपने बुनता है इसलिए […]

Continue Reading

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में 39 गैंडों का शिकार

प्रमोद भार्गवविश्वविख्यात काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान के एक सींग वाले गैंडों पर बंगलादेश से आए अवैध घुसपैठिए कहर ढा रहे हैं। यहां पिछले 10 महीने के भीतर 39 गैंडों को मार गिराने की घटनाएं सामने आई हैं। जाहिर है इस दुर्लभ वन्य प्राणी पर पहले से कहीं ज्यादा संकट के बादल गहरा गए हैं। उद्यानों के […]

Continue Reading

सारी राजनीतिक और सामाजिक विसंगतियां कांग्रेस की देन हैं

यह केवल भारत के राजनीतिज्ञों का राजनीतिक चिंतन हो सकता है कि इस देश में गरीबी भी जाति देखकर आती है, इसलिए यहां जातिगत आरक्षण दिया जाता है। इसीलिए भारत में एक गरीब केवल एक व्यक्ति नही होता है अपितु वह एक जाति विशेष का व्यक्ति होता है। कानून उससे जाति नही पूछता लेकिन भारत […]

Continue Reading

हिंदी भाषा का भारत के उच्चतम न्यायालय में प्रयोग

संविधान के रक्षक उच्चतम न्यायालय द्वारा राष्ट्र भाषा में कार्य करना अपने आप में गौरव का विषय है। राजभाषा पर संसदीय समिति ने दिनांक 28.11.1958 को संस्तुति की थी कि उच्चतम न्यायालय में कार्यवाहियों की भाषा हिंदी होनी चाहिए। उक्त संस्तुति को पर्याप्त समय व्यतीत हो गया है किन्तु इस दिशा में आगे कोई सार्थक […]

Continue Reading

मीनाक्षी लेखी:भाजपा की एक अच्छी प्रवक्ता

मीनाक्षी लेखी आकर्षक व्यक्तित्व की तेज तर्रार और मेधावी प्रवक्ता, अपने अकाट्य तर्कों से मिडिया में मोदी की ताकत बनती एक शालीन नारी शक्ति.मीनाक्षी लेखी आकर्षक व्यक्तित्व की तेज तर्रार और मेधावी प्रवक्ता, अपने अकाट्य तर्कों से मिडिया में मोदी की ताकत बनती एक शालीन नारी शक्ति।मीनाक्षी लेखी आकर्षक व्यक्तित्व की तेज तर्रार और मेधावी […]

Continue Reading

जे.पी. बनाम अमिताभ

संजय कुमारमीडिया के लिए आज विचार और सिद्वांत कोई मायने नहीं रखते, बल्कि बाजार और सेलिब्रेटिज मायने रखते हैं। इसे चरितार्थ बिहार की मीडिया ने किया। 11 अक्टूबर लोकनायक जयप्रकाष नारायण की जयंती है और वहीं फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन का जन्म दिन भी। बिहार से प्रकाशित 11 अक्टूबर के समाचार-पत्रों में देश की राजनीति […]

Continue Reading

आईए चलें: चित्त की पवित्रता और परलोक के आलोक में

गतांक…..से आगेठीक इसी प्रकार व्यष्टि चित्त में पड़ा कोई प्रबल शुभ संस्कार अनुकूल वातावरण पाकर जब भोगोन्मुख होता है तो वह समष्टि चित्त से सजातीय संस्कारों को खींचता है जिनसे उसे विशेष ऊर्जा मिलती है। घोर गरीबी, विघ्न बाधाओं के बावजूद भी वह व्यक्ति ऐसे सबके आकर्षण और प्रेरणा का केन्द्र बनता है जैसे कूड़े, […]

Continue Reading

अल्लाह की बेटी पर तालिबान का सितम

पाकिस्तान की बेटी मानवाधिकार कार्यकर्ता और लड़कियों में शिक्षा की अलख जगाने वाली 14 साल की मलाला यूसुफजई पर तालिबान ने जो गोली मारी है, वह मलाला के साथ ही इसलाम के बुनियादी उसूलों पर भी चली है। इसलाम लड़कियों को शिक्षा हासिल करने का अधिकार देता है, जिसे रोकना किसी भी सूरत जायज नहीं […]

Continue Reading