NCR में होम सेल्स में 8% की सालाना बढ़ोतरी

  • 2015-11-13 04:30:39.0
  • अमन आर्य

घरों की मांग बढ़ने, लोअर होम लोन रेट और कमोडिटी प्राइस में कमी से देश के टॉप 8 शहरों में होम सेल्स में सालाना आधार पर 17 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। प्रॉपर्टी रिसर्च फर्म लियासेज फोराज के मुताबिक, करंट फिस्कल इयर की सितंबर तिमाही में 8 शहरों में 6.79 करोड़ स्क्वेयर फीट स्पेस की बिक्री हुई, जबकि पिछले साल की इसी तिमाही में यह आंकड़ा 5.78 करोड़ स्क्वेयर फीट था।
हालांकि, तिमाही आधार पर होम सेल्स में 6 फीसदी की गिरावट आई। बिना बिके हुए घरों के स्टॉक में सालाना आधार पर 18 फीसदी और तिमाही आधार पर 6 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। एनसीआर में यह आंकड़ा पिछले साल के मुकाबले 8 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 34.58 करोड़ स्क्वेयर फीट हो गया, जबकि मुंबई में बिना बिका हुआ घरों का स्टॉक 27 फीसदी बढ़कर 21.72 स्क्वेयर फीट पर पहुंच गया।
हालांकि, अक्टूबर-दिसंबर क्वॉर्टर में बिक्री बढ़ाने के लिए बिल्डर डिस्काउंट और तमाम अन्य तरह के ऑफर दे रहे हैं। आम तौर पर इस तिमाही में घरों की बिक्री में तेजी रहती है। लियासेज फोराज के मैनेजिंग डायरेक्टर पंकज कपूर ने बताया, 'कीमतों में स्थिरता और इंटरेस्ट रेट में कमी के कारण घर खरीदना सस्ता हुआ है। ऐसे में इसकी बिक्री में बेहतरी आई है। कमोडिटीज की कीमतों में गिरावट और डिवेलपर्स की तरफ से दिए जा रहे डिस्काउंट के कारण घर खरीदने की गुंजाइश और बढ़ी है।' उन्होंने बताया कि आगामी तिमाहियों में एंड यूजर डिमांड में और तेजी आएगी।
ज्यादातर मार्केट्स में पिछले एक साल में घरों की कीमतों में गिरावट आई है और इसमें मामूली बढ़ोतरी हुई है। एनसीआर में जहां घरों की कीमतों में 4 फीसदी की गिरावट आई, जबकि मुंबई में मकान 2 फीसदी सस्ते हुए। हैदराबाद में इसमें 2 फीसदी की कमी आई। बेंगलुरु और पुणे में कीमतों में 2 फीसदी की बढ़ोतरी हुई, जबकि चेन्नै में 1 फीसदी की तेजी दिखी। कोलकाता में घरों की कीमतें स्थिर रहीं, जबकि संबंधित तिमाही में घरों की कीमतों में सालाना आधार पर सबसे ज्यादा बढ़ोतरी (3 फीसदी) अहमदाबाद में हुई।
NCR में होम सेल्स में 8% की सालाना बढ़ोतरी
लियासेज फोराज के आंकड़ों के मुताबिक, इस बिक्री में 25 लाख से कम अपार्टमेंट्स की सेल्स की हिस्सेदारी महज 17 फीसदी रही। इनमें से 40 फीसदी फ्लैट्स की बिक्री अहमदाबाद में हुई। कुल 8 शहरों में 33 फीसदी सेल्स 50 लाख से 1 करोड़ के रेंज में रही, जबकि इसके बाद 25-50 लाख वाले घरों की बिक्री का नंबर रहा।
लग्जरी सेगमेंट यानी 2 करोड़ से ऊपर के घरों की बिक्री का हिस्सा महज 84 लाख स्क्वायर फुट रहा। इस सेगमेंट में 32 फीसदी सेल्स मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन (एमएमआर) में हुई। इसके बाद एनसीआर की नंबर रहा, जिसकी ऐसे घरों की बिक्री में हिस्सेदारी 23 फीसदी रही। 2 करोड़ से ज्यादा के फ्लैट्स में बेंगलुरु का हिस्सा 20 फीसदी रहा।

Tags:    NCR