• पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-43
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-43

    • 2016-12-29 07:30:16.0

    रोग पीडि़त विश्व के संताप सब हरते रहेंगतांक से आगे.....उसमें घुटनों के बल बैठकर व्यक्ति शौच करता था।...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-42
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-42

    • 2016-12-19 05:00:00.0

    रोग पीडि़त विश्व के संताप सब हरते रहेंगतांक से आगे.....मनुष्य अपने आप में स्थित (स्वस्थ-निर्भान्त और...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-41
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-41

    • 2016-12-05 08:00:43.0

    रोग पीडि़त विश्व के संताप सब हरते रहेंगतांक से आगे.....यह संसार विभिन्न प्रकार के रोग-शोक व संतापों ...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-40
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-40

    • 2016-11-23 08:00:47.0

    नित्यश्रद्घा भक्ति से यज्ञादि हम करते रहेंगतांक से आगे.....इस दृष्टांत का केवल एक ही अर्थ है कि हमार...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-39
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-39

    • 2016-11-13 03:30:30.0

    नित्यश्रद्घा भक्ति से यज्ञादि हम करते रहेंअर्थात मुझे सौ वर्ष के जीवन के अंत में यह बात मिली कि श्रद...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-38
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-38

    • 2016-11-07 08:00:28.0

    नित्यश्रद्घा भक्ति से यज्ञादि हम करते रहेंगतांक से आगे.....जब तक ऐसी स्थिति किसी साधक की नहीं बनती ह...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-37
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-37

    • 2016-10-23 06:30:33.0

    नित्यश्रद्घा भक्ति से यज्ञादि हम करते रहेंगतांक से आगे.....'सत्यार्थ-प्रकाश' के 'नवम समुल्लास' में ए...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-36
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-36

    • 2016-10-19 14:30:03.0

    धर्म-मर्यादा चलाकर लाभ दें संसार कोगतांक से आगे.....भौतिक व्यक्ति धन में आनंद खोजता है, इस भौतिक जगत...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-35
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-35

    • 2016-10-14 06:30:52.0

    धर्म-मर्यादा चलाकर लाभ दें संसार कोगतांक से आगे.....ऐसे लोग संसार में कोई धर्म-मर्यादा स्थापित नही क...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-33
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-33

    • 2016-09-30 05:30:39.0

    धर्म-मर्यादा चलाकर लाभ दें संसार कोगतांक से आगे.....किसी कवि ने कितना सुंदर कहा है :-''न हो दुश्मनों...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-32
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-32

    • 2016-09-24 11:00:49.0

    अश्वमेधादिक रचायें यज्ञ पर उपकार कोगतांक से आगे.....इस प्रकार यज्ञादि को चाहे हम परोपकार के लिए ही क...