• पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-55
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-55

    • 2017-04-30 03:30:18.0

    लाभकारी हो हवन हर जीवधारी के लिएज्ञान पूर्वक का अर्थ है कि इसमें किसी प्रकार का अज्ञानान्धकार, पाखण्...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-54
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-54

    • 2017-04-27 06:30:10.0

    लाभकारी हो हवन हर जीवधारी के लिएअग्नि प्रज्ज्वलन के मंत्रों में 'ओ३म् भू: भुव: स्व:।' प्रथम बार में ...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-53
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-53

    • 2017-04-24 05:00:26.0

    लाभकारी हो हवन हर जीवधारी के लिएजब हम कहते हैं कि 'लाभकारी हो हवन हर जीवधारी के लिए' तो उस समय हवन क...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-52
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-52

    • 2017-04-23 04:00:45.0

    कामनाएं पूर्ण होवें यज्ञ से नरनार कीक्रोध, मद, मोह, लोभ इत्यादि के विषय में भी ऐसा ही मानना चाहिए। अ...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-51
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-51

    • 2017-04-17 08:00:26.0

    कामनाएं पूर्ण होवें यज्ञ से नरनार कीप्रसिद्घ कवि शिव मंगलसिंह 'सुमन' अपनी 'थीसिस' के लिए शांति निकेत...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-50
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-50

    • 2017-04-15 10:30:00.0

    कामनाएं पूर्ण होवें यज्ञ से नरनार कीअब हम पुन: अपने मूल मंत्र अर्थात ओ३म् त्वं नो अग्ने....पर आते है...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-49
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-49

    • 2017-03-29 09:30:45.0

    कामनाएं पूर्ण होवें यज्ञ से नरनार कीभोजन के समय की जाने वाली कामनाभोजन करते समय हमारी कामनाएं कैसी ह...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-48
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-48

    • 2017-03-25 11:00:00.0

    भावना मिट जायें मन से पाप अत्याचार कीगतांक से आगे.........जिससे बच्चों में उच्च मानवीय नैतिक गुणों क...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-47
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-47

    • 2017-02-22 11:00:24.0

    भावना मिट जायें मन से पाप अत्याचार कीगतांक से आगे.........तब ऐसी बुद्घि व्यक्ति से पवित्र कार्य करात...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-46
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-46

    • 2017-02-20 11:00:12.0

    भावना मिट जायें मन से पाप अत्याचार कीकई बार ऐसा भी होता है कि व्यक्ति छोटी-छोटी बातों को स्वाभिमान क...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-45
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-45

    • 2017-02-19 09:30:03.0

    भावना मिट जायें मन से पाप अत्याचार कीवैदिक संस्कृति में गृहस्थ धर्म को सर्वोत्तम माना गया है। ...

  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-44
  • पूजनीय प्रभो हमारे......भाग-44

    • 2017-02-10 08:45:22.0

    रोग पीडि़त विश्व के संताप सब हरते रहेंगतांक से आगे.....हमारे पूर्वज ऋषियों ने जीवन के पम लक्ष्य मोक्...