यदि हजार केजरीवाल पैदा हुए तो…

देश के कानून मंत्री सलमान खुर्शीद यानि उस सीट पर बैठने वाला शख्स जिस पर देश के संविधान के बनाने में और कानून के शासन की स्थापना कराने में महत्वपूर्ण योगदान करने वाले बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर कभी बैठा करते थे। बाबा साहेब ने सपने में भी नही सोचा होगा कि कभी इस सीट पर […]

Continue Reading

अखिलेश जी! अपने वायदों पर नही, जनता के फायदों पर चलो

उत्तर प्रदेश की कमान संभाले हुए अखिलेश यादव को अब सात माह से अधिक का समय हो गया है। वह एक युवा हैं और युवा होने के नाते प्रदेश की जनता को विशेष अपेक्षाएं उनसे हैं। युवा बीते हुए कल से कम बंधा होता है, वह आने वाले कल के सुनहरे सपने बुनता है इसलिए […]

Continue Reading

…सारे तीर्थों से उत्तम तीर्थ

आजकल के युग को विज्ञान का युग कहा जाता है लेकिन विज्ञान के इस आज के वैज्ञानिक युग को बहुत ही संकीर्ण अर्थों व संदर्भों में लिया जाता है। भारतीय वांग्मय में विज्ञान का अर्थ विशेष ज्ञान से लिया जाता रहा है। यह विशेष ज्ञान जब प्रकृति के विषय में होता है, या प्राप्त किया […]

Continue Reading

भाजपा को आडवाणी की सीख

हरियाणा की धरती परिवर्तन की प्रतीक रही है। धर्मक्षेत्र कुरूक्षेत्र तो इस बात की साक्षी देता ही है साथ ही पानीपत का वह मैदान भी यहीं पर है जिसमें बाबर और इब्राहीम लोदी के मध्य 1526 में जंग हुई थी। इसी जंग ने सवा तीन सौ साल पुरानी दिल्ली सल्तनत को उखाड़ कर सवा तीन […]

Continue Reading

हिंदुत्व का वास्तविक अर्थ

हिन्दुत्व को ‘इन्दुत्व’ कहकर उसे इण्डियननैस (भारतीयता) के समानार्थक बनाकर अपनाने की बात देश के एक प्रसिद्घ पत्रकार ने अपने हाल ही में प्रकाशित लेख के माध्यम से उठायी है। पत्रकार महोदय हिन्दुत्व के ‘हि’ अक्षर को इन्दुत्व के ‘इ’ अक्षर में परिवर्तित कर देने मात्र से सारी मान्यताओं को बदल देना चाहते हैं। उन्हें […]

Continue Reading

भारत का विपक्ष स्थिति को समझे

कोयला घोटाले की आंच से तप रही यूपीए सरकार के लिए संकट गहराता जा रहा है, लेकिन अब ये संकट कुछ विस्तार पाता जान पड़ रहा है। सीबीआई सन 1993 से हुए कोल ब्लॉक आवंटन की जांच करेगी। इससे स्पष्ट है कि एनडीए सरकार के छह सालों के दौरान हुए कोल ब्लॉक आवंटन की जांच […]

Continue Reading

कसाब की फांसी और सरकार की नीतियां

भारत की एकता और अखण्डता को मिटाने के लिए तथा यहां की आंतरिक शांति में विघ्न डालने की नीयत से 26 नवंबर 2008 को पड़ोसी देश पाकिस्तान ने भारत की आर्थिक राजधानी के रूप में प्रतिष्ठित मुंबई पर आतंकी हमला कराया था। इस हमले में पाकिस्तानी आतंकी मोहम्मद अजमल कसाब और कुछ अन्य सहयोगियों का […]

Continue Reading

आदमी को मार रहा है आदमी

मैं इलाहाबाद से लौट रहा था। टे्रन में मेरे साथ एक सज्जन पड़ोस की सीट पर बैठे थे। वह रिटायर्ड सरकारी अधिकारी थे, मेरी उनसे बातें होने लगीं। बातों का सिलसिला बढ़ा और देश की ज्वलंत समस्या भ्रष्टाचार पर केन्द्रित हो गया। वो सज्जन ऊपरी तौर पर भ्रष्टाचार की समाप्ति के लिए देश में चल […]

Continue Reading

पाकिस्तानी हिंदुओं का पलायन, और बांग्लादेशी घुसपैठ

1947 में देश विभाजन के समय पाकिस्तान में 22 प्रतिशत हिंदू थे, जो आज घटकर मात्र 5 प्रतिशत रह गये हैं। पूरा देश पाकिस्तान के हिंदुओं के प्रति गलत रवैये को लेकर और उन पर हो रहे अत्याचारों को लेकर परेशानी महसूस कर रहा था। पहली बार देश की संसद में अधिकांश राजनीतिक दलों ने […]

Continue Reading

स्वतंत्रता दिवस और बिकाऊ लोकतंत्र

देश अपनी स्वतंत्रता की 65वीं वर्षगांठ मना रहा है। इस अवसर पर हमारी शान और आन बान का प्रतीक तिरंगा बड़ी शान से लहराया जा रहा है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अब तक के सर्वाधिक निराशाजनक परिवेश में लगातार नौवीं बार ध्वजारोहण कर राष्ट्र को संबोधित करेंगे। यह पहली बार है कि जब देश के लोगों […]

Continue Reading