वेद, महर्षि दयानंद और भारतीय संविधान-39

भारतीय संविधान का अनुच्छेद 40 व्यवस्था करता है-‘राज्य ग्राम पंचायतों का संगठन करने के लिए कदम उठाएगा और उनको ऐसी शक्तियां और प्राधिकार प्रदान करेगा जो इन्हें स्वायत्त शासन की इकाईयों के रूप में कार्य करने योग्य बनाने के लिए आवश्यक हों।’पंचायती व्यवस्था प्राचीनकाल में भारत में लोकतंत्र की रीढ़ थीं। इनके राजनीतिक अधिकार तो […]

Continue Reading

रक्षामंत्री ए.के.एंटनी की सराहनीय और साहसिक पहल 50 साल में मिला शहादत को पहली बार सम्मान

भारतीय सैन्य नेतृत्व ने शनिवार को 1962 के भारत-चीन युद्ध की 50वीं बरसी मनाई। इस मौके पर पहली बार सेना ने अपने शहीद सैनिकों को नमन किया। रक्षा मंत्री एके एंटनी, तीनों सेना प्रमुख और देश के एकमात्र पांच सितारा सैन्य अधिकारी मार्शल अर्जुन सिंह ने अमर जवान ज्योति पर शहीदों को सलामी दी।एंटनी ने […]

Continue Reading

तर्कसंगत है सपा नेता मुलायम सिंह यादव का महिलाओं के लिए आरक्षण में आरक्षण

राकेश कुमार आर्यमहिला आरक्षण विधेयक को लाकर यथाशीघ्र उसे संसद से पारित करा लेना कांग्रेस नीत यूपीए की सरकार का प्रथम लक्ष्य बनता दीख रहा है। मुलायम सिंह यादव और शरद यादव जैसे लोग इस महिला विधेयक से मतभेद रखते हैं। उनका मानना है कि इस विधेयक का वर्तमान प्रारूप ही गलत है। इसमें दलित […]

Continue Reading

वेद, महर्षि दयानंद और भारतीय संविधान-37

भारतीय संस्कृति, दयानंद और संविधान के मूल अधिकारगतांक से आगे संसार में क्षुद्र से क्षुद्र कोई ऐसा प्राणी न मिलेगा, जो अपनी गतिविधि में प्रतिबंध को पसंद करे। सभी चाहते हैं कि उनकी गति निर्वाध रहे। वेद में मार्ग के संबंध में प्रार्थना है कि वह अनृक्षर अर्थात कांटों से रहित हो। कांटे मार्ग की बाधा […]

Continue Reading

जंतर-मंतर पर ममता ने भरी हुंकार–देश के लिए मनमोहन सरकार पूरी तरह बेकार

राकेश कुमार आर्यअक्टूबर का महीना कई अर्थों में महत्वपूर्ण है, इस माह के प्रारंभ में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी व देश के सबसे अधिक आदरणीय प्रधानमंत्री रहे लालबहादुर शास्त्री की जयंती दो अक्टूबर को आती है, जबकि इसी माह के अंत में देश के लौहपुरूष सरदार बल्लभ भाई पटेल की जयंती और लौह महिला के नाम […]

Continue Reading

वेद, महर्षि दयानंद और भारतीय संविधान-36

गतांक से आगे….. जिसका परिणाम निकला कि हमारे संविधानविदों ने और संविधान निर्माताओं ने अस्पृश्यता को देश और समाज के लिए एक कोढ़ माना। इसलिए अस्पृश्यता को मिटाने की और पंथ जाति व लिंग के आधार पर किसी प्रकार की असमानता का व्यवहार न होने देने की दिशा में समाज के लिए एक क्रांतिकारी कदम […]

Continue Reading

मनमोहन पर मुल्ला मुलायम की ममता आखिर क्यों..?

सिद्धार्थ शंकर गौतम18 सितम्बर की शाम जैसे ही यह खबर राष्ट्रीय मीडिया की सुर्खी बनी कि ममता अपने तमाम मंत्रियों के साथ संप्रग सरकार 2 से समर्थन वापस लेंगी, केंद्र की राजनीति में उन्हें मनाने से लेकर अन्य जोड़-तोड़ के समीकरणों पर माथापच्ची होने लगी। इसी तारतम्य में बुधवार 19 सितम्बर को कांग्रेस कोर कमेटी […]

Continue Reading

राष्ट्रदेव की आराधना को ही भाजपा अपना सांस्कृतिक राष्ट्रवाद घोषित करे

भाजपा ने संसद में यूपीए सरकार के मुखिया डा. मनमोहन सिंह को निरूत्तर कर दिया। पीएम के पास ना तो तरकश था और ना ही तीर थे। उनके साथ एक और दुर्भाग्य यह भी जुड़ गया कि पार्टी ने उनके कंधों पर तीर चलाकर आज तक कितने ही शिकार खाए। ‘मोटा माल’ लूटा, पर अब […]

Continue Reading

सरबजीत की रिहाई की उम्मीदें बढ़ी

विदेशमंत्री कृष्णा ने सरबजीत का मामला पाकिस्तानी राष्ट्रपति जरदारी के साथ अपनी पाकयात्रा के दौरान उठाया है। सरजीत सिंह भारतीय पंजाब का निवासी है, जिस पर आरोप है कि उसने वर्ष 1990 में हुए बम विस्फोटों में अपनी भागीदारी की थी। जबकि उसके परिवार का कहना है कि सरबजीत निर्दोश है और उन्हें रंजिशन गलत […]

Continue Reading

महाराज युधिष्ठिर से मोहम्मद गोरी तक के वंश का वर्णन

महाभारत युद्ध के पश्चात् राजा युधिष्ठिर की 30 पीढिय़ों ने 1770 वर्ष 11 माह 10 दिन तक राज्य किया जिसका विवरण नीचे दिया जा रहा है:युधिष्ठिर : 36 वर्ष, परीक्षित: 60 वर्ष, जनमेजय: 84 वर्षअश्वमेध: 82 वर्ष, द्वैतीयरम: 88 वर्ष, क्षत्रमाल: 81 वर्षचित्ररथ: 75 वर्ष, दुष्टशैल्य: 75 वर्ष, उग्रसेन: 78 वर्ष, शूरसेन: 78 वर्ष, भुवनपति: […]

Continue Reading