भारत-पाकिस्तान के विदेश सचिवों के बीच हुई वार्ता

  • 2016-04-26 08:50:57.0
  • उगता भारत ब्यूरो

[caption id="attachment_27599" align="aligncenter" width="760"]भारत-पाकिस्तान के विदेश सचिव Photo ANI twitter[/caption]

नई दिल्‍ली : भारत और पाकिस्तान के विदेश सचिवों ने मंगलवार को यहां द्विपक्षीय वार्ता की, जिसमें पठानकोट आतंकवादी हमले की जांच समेत कई पेचीदा मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किया गया। भारत और पाकिस्तान के विदेश सचिवों ने पठानकोट हमले के बाद अपनी पहली औपचारिक द्विपक्षीय वार्ता के दौरान हमले की जांच और कश्मीर समेत कई पेचीदा मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करते हुए बातचीत की। पाकिस्तानी पक्ष ने कश्मीर को ‘मुख्य मुद्दा’ बताया। गौर हो कि पाकिस्तानी आतंकियों की ओर से जनवरी में पठानकोट वायुसेना स्टेशन पर किए गए हमले के बाद स्थगित हुई वार्ता के बाद दोनों शीर्ष दूतों की यह पहली औचपरिक बैठक है।

विदेश सचिव एस जयशंकर ने यहां ‘हार्ट ऑफ एशिया’ सम्मेलन में भाग लेने आए अपने पाकिस्तानी समकक्ष एजाज अहमद चौधरी से मुलाकात की जिसके बाद पाकिस्तानी पक्ष ने कहा कि उसके विदेश सचिव ने ‘जोर दिया कि कश्मीर मुख्य मुद्दा है जिसका संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों और कश्मीरी लोगों की भावनाओं के अनुरुप उचित समाधान निकाले जाने की आवश्यकता है।’ इस बैठक पर भारतीय पक्ष ने तत्काल कोई औपचारिक बयान नहीं दिया। ऐसा माना जा रहा है कि विदेश सचिव एस जयशंकर और उनके पाकिस्तानी समकक्ष एजाज अहमद चौधरी ने व्यापक द्विपक्षीय वार्ता (सीबीडी) को आगे ले जाने के तरीकों पर भी विचार-विमर्श किया जो अभी रुकी हुई है।

वहीं, पाकिस्तान ने विदेश सचिव स्तर की वार्ता पर कहा कि कश्मीर सहित सभी लंबित मुद्दों पर चर्चा हुई। पाकिस्तान के विदेश सचिव ने जोर दिया कि कश्मीर प्रमुख मुद्दा है जिसके उचित समाधान की आवश्यकता है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों और कश्मीरी लोगों की भावनाओं के अनुरूप कश्मीर मुद्दे के उचित समाधान की जरूरत है। ऐसा समझा जा रहा है कि जयशंकर ने पठानकोट आतंकवादी हमले के जांच के मामले को उठाया।