हक्कानी नेटवर्क को आंतकी गुट घोषित करने की मांग

प्रमुख समाचार/संपादकीय

वाशिंगटन। अमेरिका के रिपब्लिक एवं डेमोक्रेटिक पार्टी के शीर्ष सांसदों ने ओबामा प्रशासन से पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन हक्कानी नेटवर्क को तत्काल आतंकी संगठन घोषित करने की मांग की है। हक्कानी नेटवर्क ने हाल ही में हुए काबुल स्थित अमेरिकी दूतावास पर हमले सहित नाटो फौजों पर हुए कई हमलों की जिम्मेदारी ली है,लेकिन अमेरिकी प्रशासन अफगानिस्तान में आतंकियों के साथ वार्ता कर रहा है इसलिए नेटवर्क को आतंकी संगठन करार देने के प्रति अनिच्छुक है। अफगानिस्तान यात्रा से लौटने के बाद सांसदों ने विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन को लिखे पत्र में कहा कि राष्ट्रपति हामिद करजई एवं अमेरिकी अधिकारियों से मिलने के बाद उनकी चिंताओं की पुष्टि हुई है। सांसदों ने कहा कि यह स्पष्ट है कि हक्कानी नेटवर्क लगातार अमेरिकी हितों पर हमला कर रहा है। रेयान क्रोकर ने पिछले हफ्ते बताया कि पिछले वर्ष से करजई एवं आतंकियों के मध्य कोई वार्ता नहीं हुई है। यह नेटवर्क बेगुनाह पुरुषों, महिलाओं एवं बच्चों के लिए लगातार खतरा बना हुआ है। इस पत्र पर सीनेट की खुफिया समिति के प्रमुख एवं डेमोक्रेटिक सांसद डियाने फिंस्टीन, रिपब्लिक सांसद सैक्सबी चेम्बलीस के अलावा हाउस की खुफिया समिति के प्रमुख एवं रिपब्लिक सांसद माइक रोजर्स और डेमोक्रेट सांसद डच रुपर्सबर्गर के हस्ताक्षर हैं। विदेश विभाग की प्रवक्ता विक्टोरिया नुलैंड ने शुक्रवार को कहा कि प्रशासन कांग्रेस के पत्र पर विचार कर रहा है।उन्होंने कहा कि वह लगातार कांग्रेस से इन मुद्दों पर चर्चा कर रहे हैं। दोनों इस नेटवर्क के विषय में बड़े स्तर पर आंतरिक चर्चा कर रहे हैं।नुलैंड ने कहा कि सिराजुद्दीन हक्कानी, बदरुद्दीन हक्कानी, संगीन जादरान और माली खान सहित नेटवर्क के अन्य पांच प्रमुख सदस्यों को चिन्हित कर लिया गया है।प्रवक्ता ने कहा कि अमेरिका हक्कानी नेटवर्क के विषय में पाकिस्तान सरकार से वार्ता कर रहा है। जब क्लिंटन अक्टूबर में पाकिस्तान यात्रा पर गई थीं तो यह प्रमुख मुद्दा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *