गर्म हवाओं के साथ आसमां से बरसने लगी आग

प्रमुख समाचार/संपादकीय

नोएडा, बढ़ते पारे ने लोगों की दिनचर्या को भी प्रभावित करना शुरू कर दिया है। सुबह से लेकर शाम तक पड़ रही तेज धूप से रोजमर्रा के कामों के लिए भी लोगों का बाहर निकलना दूभर हो गया है। मंगलवार को भी मौसम अपने तल्ख अंदाज में पेश आया। मौसम विभाग के मुताबिक, बुधवार और बृहस्पतिवार को आकाश के साफ रहने और तीखी धूप पडऩे के आसार हैं। इसके साथ ही आने वाले दो दिनों में लू का असर बढऩे की संभावना है।
हफ्ते के पहले ही दिन धूप की तीखी किरणों का सामना कर रहे लोगों को दूसरे दिन सुबह बादलों से घिरे आसमान को देख गर्मी से कुछ राहत मिलने की उम्मीद जगी, लेकिन कुछ पलों बाद ही उन्हें नाउम्मीदी हाथ लगी। सूरज अपने पूरे रौब के साथ फलक पर उतर आया। इसके बाद सूरज ने न तो बादलों की परवाह की और न हवाओं की। तेज धूप और गर्मी आलम यह था कि गलियों में टहलने वाले जानवर भी छांव की तलाश में इधर-उधर भटकते दिखे। काम के सिलसिले में घर से निकलना बाध्यता थी और उस पर धूप के साथ लू का सामना करना किसी जंग पर जाने से कम नहीं रहा।
सबसे ज्यादा परेशानी पैदल चलने वाले, रिक्शाचालकों और दुपहिया वाहनों पर चलने वाले लोगों को झेलनी पड़ी। शाम तक भी धूप का असर कम होने का नाम नहीं ले रहा था। वहीं, मंगलवार को अधिकतम तापमान 42 डिग्री सेल्सियस तक जा पहुंचा। वहीं न्यूनतम तापमान भी 27.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग के मुताबिक 23 और 24 मई को अधिकतम तापमान 43 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 27 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है। आसमान पूरी तरह से साफ रहने के आसार है। बढ़ती गर्मी और तेज धूप के कारण लोग त्वचा संबंधी रोगों की चपेट में भी आते जा रहे हैं। जो लोग धूप के प्रभाव से बचने के साधन नहीं अपना रहे उन्हें त्वचा के जलने की शिकायत हो सकती है। त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉक्टर संतोष गुप्ता का कहना है कि तेज धूप में त्वचा झुलसने लगती है। धूप में अल्ट्रा वॉयलेट किरणें पाई जाती हैं, जो त्वचा के मेलेनिन से मिलकर पिगमेंट बनाती हैं। इससे त्वचा का रंग सांवला होने लगता है। धूप का असर सुबह ग्यारह बजे से शाम तीन बजे तक अधिक होता है। उनका कहना है कि महिलाओं व बच्चों की त्वचा अधिक नाजुक होती है। ऐसे में तेज धूप का असर उनकी त्वचा पर जल्दी होता है।
त्चचा झुलसने के अलावा चेहरे पर झाइयां भी पडऩे लगती हैं। त्चचा को झुलसने से बचाने के लिए सन्सक्रीन का प्रयोग करना चाहिए। सन्सक्रीन का असर दो से तीन घंटे तक ही होता है।
अधिक देर तक धूप में रहने पर क्रीम का प्रयोग दोबारा करना चाहिए। उनका कहना है कि जैसे-जैसे धूप का असर तेज होता जा रहा है। पीडि़तों की संख्या बढ़ती जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *