आयुर्वेद दिवस (धनतेरस), 24 अक्टूबर

प्रमुख समाचार/संपादकीय

कालीचरण आर्य

1. प्रायः कहा जाता है कि आयुर्वेद सर्वश्रेष्ठ चिकित्सा प्रणाली है।

2. इसके प्रयोग से बीमारी स्थायी रूप से ठीक हो जाती है।

3. नब्ज-नाड़ी देखकर चिकित्सक बीमारी बता देते हैं।

4. इसकी दवाएं सस्ती हैं और इनका कुप्रभाव या दुष्प्रभाव भी नहीं होता है।

5. समय को देखकर कई औषधि निर्माताओं ने अपनी दवाइयां के इंगलिश नाम रखे हैं।

6. सरकारी स्तर पर भी कई आयुर्वेदिक चिकित्सालय है किंतु इनमें रोगियों की संख्या कम रहती है।

7. प्रतिवर्ष इस दिन नगर के वैद्य गण एकत्रिात होकर आयुर्वेद के प्रवर्तक भगवान धनवंतरि की पूजा करते हैं।

8. योग गुरु बाबा रामदेव योग के साथ आयुर्वेद का प्रचार भी करते हैं। इनकी प्रमुख फार्मेसी का नाम दिव्य फार्मेसी है जो हरिद्वार में है।

9. 4 जून को बाबा रामदेव ने नई दिल्ली में अनशन किया था। यह देखकर खेद हुआ कि उनका उपचार वैद्यों से नहीं कराया गया बल्कि 14 डाक्टरों की टीम ने किया।

10. प्रायः बीमारी गंभीर हो जाने पर परिवार के लोग भी प्रसिद्ध वैद्य को भी, एलोपैथी डाक्टर से इलाज कराते हैं। इसका अच्छा प्रभाव नहीं पड़ता है। इससे आयुर्वेद के प्रति लोगो की आस्था कम होती है।

11. यदि आयुर्वेद दवाओं की गुणवत्ता और अच्छी हो जाये तो जनता इस ओर आकर्षित हो सकती है।

(अध्यक्ष सा.प्र.स.), बुलंदशहर

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *